Photo of a sunset over boats on the River Assam

वेबसाइट के इस खंड में केंद्र द्वारा संचालित गतिविधियां और घटनाओं का विवरण, साथ ही दूसरों द्वारा आयोजित प्रासंगिक कार्यक्रमों का विवरण दिया गया है।

भारत-यूके जल केंद्र द्वारा हिमालय क्षेत्र में वर्षा पूर्वानुमानों एवं जलवायु की पूर्व-सूचनाओं को घाटी के स्तर पर जल विज्ञान संबंधी प्रतिमानन के साथ एकीकृत करना नामक विषय पर 2-4 मई 2018 को भारतीय वन्यजीव संस्थान, देहरादून, भारत में तीन दिवसीय एक कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है।

भारत-यूके जल केंद्र ने 19-21 जून, 2017 में पृथ्वी अवलोकन के माध्यम से मीठे पानी की निगरानी बढ़ाने नामक विषय पर कार्यशाला का आयोजन यूके के स्टर्लिंग शहर में किया गया।

भारत-यूके जल केंद्र ने 29 नवंबर से 1 दिसंबर 2016 तक जल सुरक्षा के लिए जल- जलवायु सेवाएं विकसित करना नामक विषय पर कार्यशाला का आयोजन भारत के पुणे शहर में किया गया।

अनुसंधान तथा प्रबंधन के लिए मीठे पानी की निगरानी तंत्रों एवं आंकड़ों को सुधारने के संबंध में क्षेत्रीय स्तर के जल नीति और प्रबंधन निकायों के साथ जुड़ने हेतु आईयूकेडब्ल्यूसी, अपने उपयोगकर्ता सहभागिता पहल (यूईआई) कार्यक्रम के अंतर्गत जनवरी 2018 में कोच्चि, केरल, भारत में एक कार्यशाला के आयोजन की मेजबानी किया। लक्षित गतिविधियों का संचालन विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा किया गया था जिन्हें उनकी विशेषज्ञता और आईयूकेडब्ल्यूसी के ओपेन नेटवर्क प्रोफ़ाइल के आधार पर चुना गया था