Confluence of the Devprayag

वेबसाइट के इस खंड में आपको प्रासंगिक सहयोगी इंडो-यूके अनुसंधान परियोजनाओं का विवरण और लिंक मिलेंगे . यदि आपके पास प्रासंगिकता का एक प्रोजेक्ट है जिसे आप यहां सूचीबद्ध करना चाहते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करें

परियोजनाएं

cosmos-indiaखेती एवं फसलों के पैदावार के लिए मिट्टी की नमी की स्थिति, साथ ही साथ भूजल तथा मौसम पूर्वानुमान के पुनर्भरण के लिए भी महत्वपूर्ण है। कॉसमॉस इंडिया बड़े क्षेत्र (फील्ड स्केल औसत) की मिट्टी की नमी सेंसर का उपयोग करके स्थायी रूप से निगरानी रखने वाले स्टेशनों से वास्तविक समय की मिट्टी की नमी अवलोकनों को बचाता है।

chanselogo

भोजन, ऊर्जा एवं परितंत्र सेवा (SWR) कार्यक्रम के लिए जल संसाधनों के प्रतिपालन के अंतर्गत एक एन.ई.आर.सी. / एम.ओ.ई.एस. निधिबद्ध परियोजना जो भारत-गांगेय मैदानों (IGP) के मानवीय गतिविधियों एवं जल-मौसम विज्ञानी प्रणाली के बीच प्रभावी परस्परक्रियाओं एवं प्रतिपुष्टियों के मानचित्रण एवं प्रमात्रीकरण को उन्नत बनाने का लक्ष्य रखता है।

भोजन, ऊर्जा एवं परितंत्र सेवाएं (SWR) कार्यक्रम के लिए जल संसाधनों के प्रतिपालन के अधीन  एक एन.ई.आर.सी./पृ.वि. मंत्रालय निधिबद्ध परियोजना जो अन्वेषण करती है कि कैसे हिमालयी नदी तंत्र में जल का भंडारण और प्रगमन होता है।

भोजन, ऊर्जा एवं परितंत्र सेवाएं (SWR) कार्यक्रम के लिए जल संसाध्नों के प्रतिपालन के अधीन एक एन.ई.आर.सी./पृ.वि.मंत्रालय निधि बद्ध परियोजना जो अन्वेषण करता है कि कैसे भूमि-उपयोग, भू-आवरण, सिंचाई प्रक्रियाओं में बदलाव एवं लघु-मापी जल प्रबंधन में व्यवधान जलीय प्रक्रियाओं को स्थानीय तौर पर प्रभावित करते हैं।