Grass roots level

आधारभूत स्तर पर क्षेत्रीय अनावरण सत्र(जीएफईएस) के माध्यम से पहल तथा जल विज्ञान अनुसंधान के डिजाइन एवं विकास के प्रारम्भिक चरणों में भारत-युके के उपयोगकर्ताओं और शोधकर्ताओं के बीच सहयोग को आईयूकेडब्ल्यूसी समर्थन करता है। ये सत्र सह-उत्पादन और सह-रचना की अवधारणा को गति देने के लिए स्थानीय ज्ञान एवं उपयोगकर्ताओं के अनुभवों के एकीकरण को बढ़ावा देता है तथा कार्यकलाप के सह-रचना में विज्ञान व नीति में उपयोगकर्ता प्रतिक्रिया को सुगम बनाने और आईयूकेडब्ल्यूसी के उपयोगकर्ता सहभागिता पहल के लिए एक परिपूरक साधन तैयार करेगा।

नीति एवं विज्ञान संबन्धि आउटपुट की वास्तविक उपयोगिता को समझने के लिए जमीनी स्तर पर जल हितधारकों (उदाहरण के लिए, स्थानीय नगरपालिका प्राधिकरण, छोटे और मध्यम आकार के उद्यमों, किसान संघों) द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दों को वैज्ञानिकों के समक्ष उजागर करने हेतु जीएफईएस अभिकल्पित(डिजाइन) किए गए बहु-दिवसीय घटनाओं का रूप लेता है। यह पहल मांग आधारित अनुसंधान और संबंधित नीति आउटपुट को सुविधाजनक बनाने के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण अपनाएगी। ये सत्र आईयूकेडब्ल्यूसी उपयोगकर्ता सहभागिता पहल( जो ज्ञान के आदान-प्रदान तथा मौजूदा भारत-यूके अनुसंधान को हितधारकों के लिए स्थानांतरण पर केंद्रित है।) के लिए एक परिपूरक साधन के रूप में बने होंगे। जीएफईएस सह-उत्पादन और सह-रचना की अवधारणा को गति तथा उपयोगकर्ता प्रतिक्रिया को विज्ञान व नीति मे सुविधा देगा।

इन पहलों के लिए विषय आईयूकेडब्ल्यूसी द्वारा निर्देशित हैं तथा हर बार विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों को समाविष्ट(कवर) करने की योजना बनाई गई है। प्रत्येक सत्र के लिए आईयूकेडब्ल्यूसी हर एक जीएफईएस को रचना(डिजाइन) और कार्यान्वित करने में मदद के लिए दो सेक्टोरल लीड (भारत और युके से प्रत्येक) को सूचीबद्ध करेगा। हितधारक सहभागिता तथा तकनीकी विशेषज्ञता वाले व्यक्तियों का मिश्रण खोजा जाएगा।

वैज्ञानिक दल के सदस्यों के लिए आईयूकेडब्ल्यूसी आधारभुत स्तर पर क्षेत्रीय अनावरण सत्र (जीएफईएस) के लिए ओपन कॉल - यहाँ देखें